• Wed. Jun 29th, 2022

दिल्ली मे मुठभेड़ ,गिरफ्तार हुए बड़े गैंगस्टर

दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल ने गैंगस्टर लॉरेश बिश्नोई और काला राणा गैंग के  तीन गैंगस्टरों को एक इनकाउंटर के बाद गिरफ्तार किया है।ये इनकाउंटर नई दिल्ली जिला के बुद्धा गार्डन इलाके के पास हुआ है।मुठभेड़ के बाद गैंगस्टर विवेक पूरी ,अश्विनी कुमार

औऱ प्रशांत को पकड़ा गया है,इनके खिलाफ दिल्ली हरियाणा पंजाब में कई आपराधिक मामले दर्ज है। इनके कब्जे से तीन पिस्टल 13 कारतूस बरामद किए गए है। 

ये सभी बड़े बिजनेसमैन से उगाही करते थे , बिहार के कई नामी लोगो इन गैंगस्टर से उगाही कर रखी है।

दिल्ली पुलिस के मुताबिक आज शाम 7 बजे से 8 बजे के बीच बुद्धा गार्डन के पास साइमन बोलिवर रोड पर लॉरेंस बिश्नोई गिरोह के तीन सदस्यों के उनकी स्कॉर्पियो कार में आने की सूचना मिलने पर एक टीम गठित की गई और ऊपर दिए गए स्थान पर जाल बिछाया गया। कार में बैठे चार लोगों को टीम ने देखा ,उन्हें रुकने का इशारा किया गया लेकिन रुकने के बजाय उन्होंने कार को पुलिसवालों पर चढ़ाने की कोशिश की लेकिन उनका रास्ता रोक दिया गया। विवेक पुरी और प्रशांत अपनी कार से बाहर आए और पुलिस टीम पर फायरिंग शुरू कर दी। इस पर।पुलिस टीम एक राउंड भी फायरिंग की और आखिरकार उन्हें काबू कर लिया

तीनों के पास से तीन सेमी-ऑटोमैटिक पिस्टल और 13  कारतूस बरामद किए गए। दो आरोपी व्यक्तियों द्वारा और  पुलिस द्वारा गोली चलाई भी मौके से बरामद की गई। गिरफ्तार गैंगस्टर पिछले चार साल से लॉरेंस बिश्नोई और काला राणा के गिरोह से सक्रिय रूप से जुड़े पाए गए हैं।

विवेक पुरी और प्रशांत कला राणा समेत अपने 6 अन्य साथियों के साथ इससे पहले साल 2018 में हरियाणा के अंबाला में हत्या, हत्या के प्रयास और डकैती के सनसनीखेज मामले में गिरफ्तार किये गए थे,उस मामले में आरोपितों ने जबरन ज्वैलरी के शोरूम में प्रवेश किया और  शोरूम के कर्मचारियों पर सोना व नकदी की लूट को अंजाम देने के लिए फायरिंग की. शोरूम के कर्मचारियों के विरोध करने पर आरोपियों ने अंधाधुंध फायरिंग कर एक व्यक्ति की हत्या कर दी और एक अन्य को गंभीर रूप से घायल कर दिया।

विवेक पुरी अपने साथियों के साथ बिहार के गोपालगंज जिले में रंगदारी के 4 मामलों में वांछित है. उसने बिहार के कई व्यवसायियों, जौहरियों, दुकान मालिकों, मेडिकल स्टोर मालिकों और अन्य अमीर व्यक्तियों से लॉरेंस बिश्नोई के नाम से पिछले 4 महीनों के दौरान रंगदारी की मांग की थी. विवेक पुरी और उनके सहयोगियों ने भी दो मामलों में पीड़ितों की दुकानों पर गोलियां चलाईं ताकि उन्हें आतंकित किया जा सके ताकि उन्हें जबरन वसूली की अपनी मांग के आगे झुकने के लिए मजबूर किया जा सके। विवेक पुरी पहले भी बिहार, पंजाब और हरियाणा में रंगदारी और डकैती, हत्या, हत्या के प्रयास, हमला, धमकी, हथियार अधिनियम आदि के ऐसे कई और मामलों में शामिल रहा है

प्रशांत पहले हरियाणा और पंजाब में हत्या, हत्या के प्रयास, लूट, मारपीट, चोट, हथियार अधिनियम आदि सहित 4 आपराधिक मामलों में शामिल है।

 अश्विनी पहले हरियाणा और पंजाब में हथियारों की आपूर्ति के मामलों में शामिल है। वह लॉरेंस बिश्नोई और कला राणा के गिरोह के सदस्यों को हथियार सप्लाई करता है

गिरफ्तार बदमाशों से आगे की पूछताछ जारी है.